You are currently viewing Bring out the causes for more frequent landslides in the Himalayas than in Western Ghats
In conclusion, the frequency of landslides in the Himalayas is higher than in the Western Ghats due to the complex geological structure, high altitude, harsher climate, and extensive human activities in the region. Understanding the causes of landslides can help in developing effective measures for mitigating their impacts.

Bring out the causes for more frequent landslides in the Himalayas than in Western Ghats

Formation of Himalayas

The Himalayas and the Western Ghats are both mountain ranges in India, but they have distinct geological and environmental differences that contribute to the difference in the frequency of landslides. Here are some of the causes for more frequent landslides in the Himalayas than in the Western Ghats:

  1. Geological Structure: The Himalayas are much younger than the Western Ghats and are formed by the collision of the Indian and Eurasian tectonic plates. The geological structure of the Himalayas is highly complex and consists of various types of rocks, such as limestone, sandstone, shale, and granite, that have different properties and stability. In contrast, the Western Ghats are composed of relatively stable rocks such as laterite, basalt, and gneiss. This difference in the geological structure of the two regions is a major factor in the frequency of landslides.
  2. Altitude: The Himalayas are much higher in altitude than the Western Ghats. The steep slopes of the Himalayan region are prone to soil erosion and the soil becomes loose, making the area more vulnerable to landslides.
  3. Climate: The climate of the Himalayas is much harsher than that of the Western Ghats. The Himalayan region receives heavy rainfall during the monsoon season, which usually starts in June and continues until September. The rainfall saturates the soil, making it unstable and causing landslides. The Western Ghats also receive heavy rainfall during the monsoon season, but the rainfall is not as intense as in the Himalayas.
  4. Human Activities: Human activities, such as deforestation, mining, and construction, can also contribute to the frequency of landslides. The Himalayan region has experienced extensive human activities, which have increased the risk of landslides. In contrast, the Western Ghats have not experienced as much human activity, and this has helped to maintain the stability of the region.

In conclusion, the frequency of landslides in the Himalayas is higher than in the Western Ghats due to the complex geological structure, high altitude, harsher climate, and extensive human activities in the region. Understanding the causes of landslides can help in developing effective measures for mitigating their impacts.

Hindi Answer

पश्चिमी घाट की तुलना में हिमालय में बार-बार होने वाले भूस्खलन के कारणों को उजागर कीजिए

हिमालय और पश्चिमी घाट दोनों भारत में पर्वत श्रृंखलाएं हैं, लेकिन उनके पास विशिष्ट भूगर्भीय और पर्यावरणीय अंतर हैं जो भूस्खलन की आवृत्ति में अंतर में योगदान करते हैं। पश्चिमी घाट की तुलना में हिमालय में अधिक भूस्खलन के कुछ कारण इस प्रकार हैं:

  1. भूवैज्ञानिक संरचना: हिमालय पश्चिमी घाट की तुलना में बहुत छोटा है और भारतीय और यूरेशियन टेक्टोनिक प्लेटों के टकराने से बना है। हिमालय की भूवैज्ञानिक संरचना अत्यधिक जटिल है और इसमें विभिन्न प्रकार की चट्टानें शामिल हैं, जैसे चूना पत्थर, बलुआ पत्थर, शेल और ग्रेनाइट, जिनके अलग-अलग गुण और स्थिरता हैं। इसके विपरीत, पश्चिमी घाट अपेक्षाकृत स्थिर चट्टानों जैसे लेटराइट, बेसाल्ट और गनीस से बने हैं। दो क्षेत्रों की भूगर्भीय संरचना में यह अंतर भूस्खलन की आवृत्ति का एक प्रमुख कारक है।
  2. ऊंचाई: पश्चिमी घाट की तुलना में हिमालय की ऊंचाई बहुत अधिक है। हिमालयी क्षेत्र की खड़ी ढलानें मिट्टी के कटाव के लिए प्रवण हैं और मिट्टी ढीली हो जाती है, जिससे यह क्षेत्र भूस्खलन के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाता है।
  3. जलवायु: हिमालय की जलवायु पश्चिमी घाट की तुलना में बहुत कठोर है। हिमालयी क्षेत्र में मानसून के मौसम में भारी वर्षा होती है, जो आमतौर पर जून में शुरू होती है और सितंबर तक जारी रहती है। वर्षा मिट्टी को संतृप्त करती है, जिससे यह अस्थिर हो जाती है और भूस्खलन होता है। पश्चिमी घाटों में भी मानसून के मौसम में भारी वर्षा होती है, लेकिन हिमालय की तरह तीव्र वर्षा नहीं होती है।
  4. मानवीय गतिविधियाँ: मानव गतिविधियाँ, जैसे कि वनों की कटाई, खनन और निर्माण, भूस्खलन की आवृत्ति में भी योगदान कर सकती हैं। हिमालयी क्षेत्र में व्यापक मानवीय गतिविधियों का अनुभव हुआ है, जिससे भूस्खलन का खतरा बढ़ गया है। इसके विपरीत, पश्चिमी घाटों ने उतनी मानवीय गतिविधि का अनुभव नहीं किया है, और इससे क्षेत्र की स्थिरता को बनाए रखने में मदद मिली है।

अंत में, हिमालय में भूस्खलन की आवृत्ति पश्चिमी घाट की तुलना में जटिल भूगर्भीय संरचना, उच्च ऊंचाई, कठोर जलवायु और क्षेत्र में व्यापक मानवीय गतिविधियों के कारण अधिक है। भूस्खलन के कारणों को समझने से उनके प्रभावों को कम करने के लिए प्रभावी उपाय विकसित करने में मदद मिल सकती है।

Read Also: “The Himalayas are highly prone to landslides.” Discuss the causes and suggest suitable measures of mitigation.

Leave a Reply